कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 6 जनवरी 2015

चमत्कारी हल्दी


चित्रकार-साहित्यकार प्रभु जोशी ने एक बार भारत भवन में चित्रकारों की कोई कार्यशाला का किस्सा भाई साहब श्रीराम ताम्रकर को सुनाया था। कार्यशाला में कईं चित्रकारों के साथ वरिष्ठ चित्रकार श्रेणिक जैन भी शरीक थे। प्रभुजी के अनुसार श्रेणिकजी सीढ़ियां खटाखट चढ़ गए, जबकि उनसे उम्र में छोटे लोग हांपने लगे। जब श्रेणिकजी से इस दमखम का राज पूछा तो उन्होंने इसे हल्दी का चमत्कार बताया। भारतीय रसोई की शान हल्दी सचमुच गुणों की खान है। श्रेणिकजी ने बताया कि हल्दी की गांठों को चूने के साथ दो महीने एक मटकी में पकाना पढ़ता है तब वह चमत्कारिक हो जाती है। दो महीने बाद इस हल्दी का शहद के साथ नियमित सेवन किया जाए तो शरीर का कायाकल्प हो जाता है। यह नुस्खा मैंने भी स्वामी जगदीश्वरानंदजी की पुस्तक में पढ़ा था मगर कभी आजमाया नहीं। प्रभुजी से सुनकर पुस्तक पुनः टटोली। पुस्तक में बताई विधि से हल्दी को चमत्कारी बनाया और उसका सेवन कर रहा हूं। आप भी चाहें तो कर सकते हैं।
बनाने की विधिः आधा किलो हल्दी की गांठे और एक किलो कली का चूना (पान में खाने वाला) लीजिए। चूना डली के रूप में हो पावडर नहीं। दोनों को एक मटकी में भर कर उसमें करीब दो लीटर पानी भर दीजिए। पानी डालते ही चूना उबलने लगेगा। अब मटकी का मुंह अच्छी तरह बंद कर रख दीजिए। दो माह बाद इसे खोलें और हल्दी की गांठों को कपड़े से अच्छी तरह पोंछ लें। फिर इन्हें थोड़ा कूट कर मिक्सर में बारीक पीस लें। चमत्कारी हल्दी का पावडर तैयार है। अब इसे किसी एयर टाइट डिब्बे में भर कर रख लीजिए। रोज सुबह खाली पेट तीन ग्राम पावडर (चने बराबर) शहद के साथ चाटिए। करीब एक घंटे तक कुछ खाएं पीए नहीं। कम से कम चार महीने तक सेवन करें। पुस्तक में लिखा है-इससे शरीर का कायाकल्प होने लगता है। बंद रक्त वाहिनियां खुल जाती हैं। बाल असमय सफेद हो गए हों तो काले होने लगते हैं। उगने भी लगते हैं। उसमें कुछ अतिरंजना भी है, जैसे गिद्ध सी दृष्टि और हाथी सा बल आ जाता है। बहरहाल श्रेणिकजी का उदाहरण सामने है। आपभी प्रयोग कर अनुभव शेयर कीजिए। आयुर्वेद में ऐसे अनेक नुस्खों का खजाना भरा पड़ा है, जरूरत है इन्हें नए सिरे से शोध कर आजमाने की।

1 टिप्पणी:

  1. Aap ne jo chamatkari haldi wala nushka bataya tha. Woh behad hi ghatak hai mene try kiya tha apne parents par unke thik thak ghutno mein dard ban gaya aur ab ghutne modte samay bhi dard hota. Maine confirm karne ye upay apne upar try kiya same condition mere bhi saath ho gayi aur meri age sirt 26 saal ki hai. Toh please is tarah ke post upload naa kare aur upload karne se pehle jaankari sunishchit kar le ki jo aap upload kar rhe h wo thik hai bhi yaa nahi

    उत्तर देंहटाएं