कुल पेज दृश्य

गुरुवार, 28 जून 2012

बवासीर (पाइल्स) का अचूक नुस्खा

खूनी बवासीर या मस्से वाली बवासीर का एक अचूक नुस्खा स्वदेशी चिकित्सा सार में पृष्ठ 54 पर है। यह मैंने भी पढ़ा था लेकिन किसी पर आजमाया नहीं था। मैं होमियोपैथी की मदरटिंचर हेमेमिलिस और बायोकाम्बिनेशन नम्बर सत्रह से बवासीर के अनेक केस ठीक कर चुका हूँ। पाँच-पाँच बूंद हेमेमिलिस आधा कप पानी में मिला कर दिन में तीन बार और बायोकाम्बिनेशन सत्रह की चार-चार गोलियाँ तीन बार लेने से खूनी और साधारण बवासीर ठीक हो जाती है।
एक रोगी को शायद बदपरेहजी की वजह से यह रोग दोबारा हो गया। दूसरी बार उसे होमियोपैथी के इस नुस्खे से लाभ नहीं हो रहा था। उस पर स्वदेशी चिकित्सा सार का यह नुस्खा आजमाया गया। बरोशी महाराष्ट्र के स्वामी डा.ओमानंदजी का यह अनुभूत प्रयोग सचमुच अचूक है। जैसा कि उन्होंने दावा किया है एक दिन में ही रक्तस्राव बंद हो जाता है। बड़ा सस्ता व सरल उपाय है।
नारियल की जटा लीजिए। उसे माचिस से जला दीजिए। जलकर भस्म बन जाएगी। इस भस्म को शीशी में भर कर ऱख लीजिए। कप डेढ़ कप छाछ या दही के साथ नारियल की जटा से बनी भस्म तीन ग्राम खाली पेट दिन में तीन बार सिर्फ एक ही दिन लेनी है। ध्यान रहे दही या छाछ ताजी हो खट्टी न हो। कैसी और कितनी ही पुरानी पाइल्स की बीमारी क्यों न हो, एक दिन में ही ठीक हो जाती है।
सचमुच मुझे भी ऐसा ही चमत्कार देखने को मिला। उस मरीज को जो पंद्रह दिन से खूनी बवासीर के कारण परेशान था, एक दिन में ही आराम हो गया। स्वामीजी ने लिखा है कि यह नुस्खा किसी भी प्रकार के रक्तस्राव को रोकने में कारगर है। महिलाओं के मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव या श्वेत प्रदर की बीमारी में भी कारगर है। हैजा, वमन या हिचकी रोग में यह भस्म एक घूँट पानी के साथ लेनी चाहिए। ऐसे कितने ही नुस्खे हिन्दुस्तान के मंदिरों और मठों में साधु संन्यासियों द्वारा आजमाए हुए हैं। इन पर शोध किया जाना चाहिए।
पुनः कुछ लोगों ने मुझे फोन कर सवाल किया कि खाली पेट दिन में तीन बार लेना अर्थार्थ दिन भर भोजन नहीं करना है क्या। मेरा सुझाव है कि दवा लेने के एक घंटा पहले और एक घंटा बाद तक कुछ न खाएं तो चलेगा। अगर रोग ज्यादा जीर्ण हो और एक दिन दवा लेने से लाभ न हो तो दो या तीन दिन लेकर देखिए। 

18 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई अच्छी जानकारी है... पर मेरे काम की नहीं... मैं करीब 19 साल से बवासीर से पीड़ित हूं... ये हमारे यहां पुश्तैनी बीमारी है... मुझे करीब 12 या 13 वर्ष की उम्र से हो गया था या उससे भी पहले जो की मुझे याद नहीं है... पेट साफ ना होना... गुदा के स्थान से कुछ अंग सा या शायद आंत का बाहर निकल आना.. कभी कभी खून आना... आंव का आना... और बने रहने जिससे अपच होने का अहसास हो... जैसी समस्या के ग्रसित हूं... now if u can then please tell me any remedy of the same... it would be great help... my email id is truthorlie.1@gmail.com.... please mail... waiting for ur reply... thanks...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बवासीर (पाइल्स) का अचूक नुस्खा
    खूनी बवासीर या मस्से वाली बवासीर का एक अचूक नुस्खा स्वदेशी चिकित्सा सार में पृष्ठ 54 पर है। यह मैंने भी पढ़ा था लेकिन किसी पर आजमाया नहीं था। मैं होमियोपैथी की मदरटिंचर हेमेमिलिस और बायोकाम्बिनेशन नम्बर सत्रह से बवासीर के अनेक केस ठीक कर चुका हूँ। पाँच-पाँच बूंद हेमेमिलिस आधा कप पानी में मिला कर दिन में तीन बार और बायोकाम्बिनेशन सत्रह की चार-चार गोलियाँ तीन बार लेने से खूनी और साधारण बवासीर ठीक हो जाती है।

    एक रोगी को शायद बदपरेहजी की वजह से यह रोग दोबारा हो गया। दूसरी बार उसे होमियोपैथी के इस नुस्खे से लाभ नहीं हो रहा था। उस पर स्वदेशी चिकित्सा सार का यह नुस्खा आजमाया गया। बरोशी महाराष्ट्र के स्वामी डा.ओमानंदजी का यह अनुभूत प्रयोग सचमुच अचूक है। जैसा कि उन्होंने दावा किया है एक दिन में ही रक्तस्राव बंद हो जाता है। बड़ा सस्ता व सरल उपाय है।
    नारियल की जटा लीजिए। उसे माचिस से जला दीजिए। जलकर भस्म बन जाएगी। इस भस्म को शीशी में भर कर ऱख लीजिए। कप डेढ़ कप छाछ या दही के साथ नारियल की जटा से बनी भस्म तीन ग्राम खाली पेट दिन में तीन बार सिर्फ एक ही दिन लेनी है। ध्यान रहे दही या छाछ ताजी हो खट्टी न हो। कैसी और कितनी ही पुरानी पाइल्स की बीमारी क्यों न हो, एक दिन में ही ठीक हो जाती है।
    सचमुच मुझे भी ऐसा ही चमत्कार देखने को मिला। उस मरीज को जो पंद्रह दिन से खूनी बवासीर के कारण परेशान था, एक दिन में ही आराम हो गया। स्वामीजी ने लिखा है कि यह नुस्खा किसी भी प्रकार के रक्तस्राव को रोकने में कारगर है। महिलाओं के मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव या श्वेत प्रदर की बीमारी में भी कारगर है। हैजा, वमन या हिचकी रोग में यह भस्म एक घूँट पानी के साथ लेनी चाहिए। ऐसे कितने ही नुस्खे हिन्दुस्तान के मंदिरों और मठों में साधु संन्यासियों द्वारा आजमाए हुए हैं। इन पर शोध किया जाना चाहिए।
    पुनः कुछ लोगों ने मुझे फोन कर सवाल किया कि खाली पेट दिन में तीन बार लेना अर्थार्थ दिन भर भोजन नहीं करना है क्या। मेरा सुझाव है कि दवा लेने के एक घंटा पहले और एक घंटा बाद तक कुछ न खाएं तो चलेगा। अगर रोग ज्यादा जीर्ण हो और एक दिन दवा लेने से लाभ न हो तो दो या तीन दिन लेकर देखिए।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस जानकारी के लिए धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  4. 'api' proudect 'api piles' piles ke liye sab se best laga.50/-me ilaj mane kai logo ko bataya sabhi ko fayda mila ha.apki jankari ke liye me apko co. ka addres bhi likh deta hu. anupam prime marketing (p) ltd. near gattani girls school nokha rajasthan,
    custemer care no.-09024410131

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह गजब की जानकारी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी ने लिखा है कि इसे लगातार तीन दिन तक लें !
    वैसे मैं इसे ले चुका हूँ पर मुझे कोई लाभ नही हुआ कोई बढिया दवाई हो तो बताओ ,जी !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Raipur, C.G. Ke Gopal Dawakhana,
      Choti line ke paas. Bawasir ka 100% ayurvedic ilaz dobara na hone ki garantee ke sath. Ek baar zaroor ayen. Milen jane aur is rog se hamesha ke liye mukti payen.

      हटाएं
  7. om om om बवासीर (पाइल्स) का अचूक नुस्खा 011 2208522
    011 -2208533

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिन लाैगौ को लम्बे समय से बवासीर है अौर ठीक नहीं हो रही उनके लिए बहुत बढिया इलाज है kshar chikitsa यूट्यूब पर आप इसके बारे मैं विस्तार से देख सकते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुझे जहाँ तक ध्यान है कि लगभग 10 सालों से बवासीर है ठीक होने के बाद दोवारा हो जाती है और इन दिनों मैंकुछ ज्यादा ही परेशान हूँ ।नारियल वाला नुस्खा आजमा चुका हूँ कोई और हो दवाई तो क्रप्या बताएं ।। धन्यबाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Raipur, C.G. Ke Gopal Dawakhana,Choti line ke paas. Bawasir ka 100% ayurvedic ilaz dobara na hone ki garantee ke sath. Ek baar zaroor ayen.Milen jane aur is rog se hamesha ke liye mukti payen.

      हटाएं