कुल पेज दृश्य

बुधवार, 14 दिसंबर 2011

अलसी का एक और चमत्कार

लसी के एक और चमत्कार से डा.मनोहर भंडारी ने विगत दिनों साक्षात्कार कराया। जबलपुर-नागपुर रोड पर पाँच किलो मीटर दूर एक जैन तीर्थ है, पिसनहारी मांडिया। यह तीन सौ फुट ऊँची एक पहाड़ी पर बना है। चार सौ सीढ़ियाँ चढ़ कर उपर पहुँचना पड़ता है। डा.भंडारी जबलपुर मेडिकल कालेज में प्राध्यापक हैं और अक्सर पिसनहारी जाते रहते हैं। वहाँ एक मुनीमजी हैं, जिनके घुटनों में दर्द रहता था। एक दिन बोले डाक्टर साहब कोई दवा बताइए। सीढ़ियाँ चढ़ने में बड़ी तकलीफ होती है। डा.भंडारी ने उन्हें अलसी खाने की सलाह दी। मुनीमजी ने दूसरे ही दिन से अलसी का नियमित सेवन शुरू कर दिया। कुछ दिनों बाद जब डाक्टर भंडारी पिसनहारी मांडिया गए तो, मुनीमजी ने बड़ी प्रसन्नता के साथ बताया-डाक्टर सा.आपका अलसी वाला नुस्खा तो बड़ा कारगर रहा। आपके बताए अनुसार करीब तीन चम्मच अलसी रोज पीस कर खाता हूँ। घुटनों का दर्द गायब हो चुका है। चार सौ सीढ़ियाँ रोज चढ़ता हूँ। अब कोई कष्ट नहीं होता।
पिसनहारी जैन तीर्थ की कथा भी बड़ी दिलचस्प है। लगभग पाँच सौ साल पुराना है यह मंदिर। एक गरीब बूढ़ी अम्मा थी, जो हाथ की चक्की में लोगों के लिए अनाज पिस कर अपना गुजर करती थी। एक बार उसे एक जैन मुनि के प्रवचन सुनने का सौभाग्य मिला। प्रवचन सुन कर वह बड़ी प्रभावित हुई। उसने दूर पहाड़ी पर एक जैन मंदिर बनाने की ठानी। अब वह पहले से ज्यादा मेहनत करती और मजदूरी के कुछ पैसे बचा कर रखती। धीरे-धीरे उसके पास काफी पैसे जमा हो गए। वह एक दिन कुल्हाड़ी लेकर पहाड़ी पर गई और वहाँ के झाड़-झंकाड़ साफ करने लगी। लोगों ने जब उसे ऐसा करते देखा तो पूछा माई तुम इस बंजर पहाड़ी पर क्या कर रही हो। माई ने अपना इरादा बताया तो अनेक लोग उसके साथ श्रमदान करने लगे। कई लोगों ने आर्थिक मदद भी की और इस तरह वहाँ मंदिर बन गया। अगर इरादे बुलंद हो तो पहाड़ों पर भी फूल खिलाए जा सकते हैं। पुराने लोग वैसे भी इरादे के पक्के और श्रमशील होते थे। बूढ़ी माँ का नाम तो इतिहास में गुम हो गया, लेकिन वह चूँकि पिसाई का कार्य करती थी, इसलिए पिसनहारी के नाम से जानी जाती थी। फिर क्या था लोगों ने इसका नाम पिसनहारी मांडिया रख दिया। कहते हैं पुराने समय में लोग अलसी को नियमित आहार के रूप में सेवन करते थे। शायद इसी वजह से इतना असाध्य श्रम कर पाते थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें