कुल पेज दृश्य

शुक्रवार, 18 नवंबर 2011

जाम का एक नया काम

जाम अर्थात अमरुद के बारे में एक नई जानकारी वैज्ञानिकों ने पेश की है। यह उम्दा एंटीआक्सीडेंट भी है। कोशिका रक्षक रसायनों को एंटी आक्सीडेंट कहते हैं। ये रसायन हमारे शरीर में रासायनिक क्रियाओं से होने वाले नुक्सान को रोकते हैं। जब हमारे शरीर की कोशिकाएँ आक्सीजन का इस्तेमाल करती हैं, तो कुदरती तौर पर फ्रीरेडिकल (स्वतंत्र अणु) उत्पन्न होते हैं, ये कोशिकाओं के लिए नुक्सानदायक होते हैं। एंटी आक्सीडेंट कोशिकाओं को इस नुक्सान से बचाते हैं। हैदराबाद के राष्ट्रीय आहार संस्थान ने चौदह फलों में एंटी आक्सीडेंट की मात्रा का पता लगाने के लिए शोध किया। उसका निष्कर्ष निकला कि जाम की सौ ग्राम मात्रा में एंटी आक्सीडेंट की मात्रा ४९६ मिलीग्राम होती है। अभी तक यह धारणा थी कि महँगे फल ही अधिक पोषक होते हैं। लेकिन इस शोध ने इस धारणा को ध्वस्त किया है। अधिक एंटी आक्सीडेंट वाले फलों की सूची में अन्य फल हैं-जामुन, अनार और सीताफल या शरीफा। अन्नानास, केला, पपीता, तरबूज और अंगूर में एंटी आक्सीडेंट की मात्रा कम होती है। अभी तक सेब को फलों का राजा समझा जाता था। कहावत चल पड़ी थी कि 'एन एप्पल आफ डे कीप्स डाक्टर अवे।' लेकिन 'एक जाम रोज, दूर भगाए रोग' नई कहावत गढ़ी जा सकती है। कुछ लोगों को यह भ्रम है कि जाम खाने से सर्दी हो जाती है और वे मस्ती से पीने वाला जाम सर्दी भगाने के लिए लगा लेते हैं। सावधान ऐसा कभी न करें अपना प्राकृतिक जाम ही निर्भय होकर लें। इस ब्लाग में जाम हटाए जाम भी देखिए।

1 टिप्पणी:

  1. ओम-वाणी डाउनलोड करने के लिए चटका करें।

    http://dl.dropbox.com/u/36450880/Om%20Vani.pdf

    115 पृष्ठ की इस ई-पुस्तक में डायबिटीज, कैंसर, अलसी, खुबानी, कलौंजी, कोएंजाइम क्यु-10, लैंगिक रोग का उपचार, अलसी के व्यंजन और अलसी खाने वाले लोगों के चमत्कारी अनुभव हैं।

    उत्तर देंहटाएं