कुल पेज दृश्य

रविवार, 17 अप्रैल 2011

लू sunstroke की दवा ग्लोनाइन

गर्मी बहुत पड़ रही है। चालीस से अधिक या आसपास तापमान चल रहा है। ऐसे में लू लगने का खतरा बढ़ जाता है। लू से बचाव के लिए सिर ढँक कर रखना ठीक रहता है। टोपी लगाएं या स्कार्फ बाँध कर धूप में निकलें तो अच्छा। धूप में निकलने से पहले पानी अच्छा पी लेना चाहिए। कुछ लोग साथ में जेब में छोटा प्याज रख लेते हैं। नानी-दादियाँ कहती थीं कि प्याज साथ रखने से लू नहीं लगती। गर्मी के दिनों में कैरी का पना भी लू से रक्षा करता है। होमियोपैथी की एक अच्छी दवाई है, जो लू से बचाती भी है और लू उतारती भी है। नाम है ग्लोनाइन, इसकी तीस शक्ति की गोलियों की एक शीशी हमेशा साथ रख कर चलिए। तेज धूप में निकलने से पहले चार गोली मुँह में डाल कर चूस लें तो लू से बचाव हो जाता है। अगर लू लग ही जाए तो आवश्यकता अनुसार दिन में तीन-चार बार चार-चार गोली चूसें। साथ ही कैरी का पना पीएँ और प्याज का रस पैर के तलुओं में लगाएं, एक दो बूँद कान में टपका लें।

2 टिप्‍पणियां:

  1. होम्योपेथिक दवाइयां अगर ठीक से चुनी जाएँ तो अचूक होती है ... एवं जादू-सा असर दिखाती है .....

    उत्तर देंहटाएं