कुल पेज दृश्य

शनिवार, 9 अप्रैल 2011

चिकित्सा जगत की शुद्धि का बीड़ा


अण्णा हजारे के अनशन से प्रेरित होकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने चिकित्सा जगत को भ्रष्टाचार मुक्त करने की घोषणा की है। अगर ऐसा हो सका, तो यह पीड़ित मानवता की महान सेवा होगी। मूलतः सेवा का यह क्षेत्र, इन दिनों चंद स्वार्थी लोगों और ड्रग माफियों के गठजोड़ का केन्द्र बन गया है। ये लोग कितने जालिम है कि दुखी लोगों को ठगने में भी शर्म नहीं खाते। कोई मरीज इन लोगों के चंगुल में फँसा नहीं कि उसे उल्टे उस्तरे से मुँडने की फिराक में रहते हैं। बिना जरूरत के ड्रिप लगाना, एंजियोप्लास्टी या बायपास कर देना, जरूरत न हो तो भी महँगी-महँगी जाँचे कराना इन दिनों आम हो गया है। सेवा का बोर्ड लगा कर मेवा कूटा जा रहा है। बीमार की बीमारी बनी रहे ताकि इनकी जेबें भरी रहे, यही इनका मूलमंत्र है। ऐसा नहीं कि सारे के सारे डाक्टर डाकू हैं। कईं देवदूत चिकित्सक भी हैं, पर इन दिनों उनकी संख्या उंगलियों पर गिनने लायक ही रह गई है। आईएमए को इस घोषणा के लिए साधुवाद। आओ हम सब मिल कर कामना करें कि अण्णा की तरह आईएमए का मिशन भी सफल हो।

2 टिप्‍पणियां:

  1. भ्रष्ट्राचार एक राष्ट्रव्यापी समस्या है। इस पर अनेकों मोर्चों पर एकसाथ हमला करने की आवश्यकता है।

    उत्तर देंहटाएं