कुल पेज दृश्य

गुरुवार, 19 जुलाई 2012

कम्प्यूटर विजन सिंड्रोम (cvs)

श्रीमानजी ऐसे काम करेंगे तो आँखे कैसे ठीक रहेंगी।
कम्प्यूटर हमारे जीवन का अनिवार्य अंग बनता जा रहा है। इससे बचा नहीं जा सकता। हर चीज के दो पहलू होते हैं। कम्प्यूटर की अच्छाइयों के साथ कुछ बुराइयाँ भी हैं। लंबे समय तक इस पर काम करने वालों को कम्प्यूटर विजन सिंड्रोम (सीवीएस) का शिकार होना पड़ता है। इसमें मस्तिष्क और आँखों पर तनाव। आँखों का गीलापन कम होना। ध्यान देने में असमर्थता। सिरदर्द, आँखों में जलन। डबल विजन और धुँधला दिखना। कंधों में दर्द की शिकायतें आम बात हो जाती है। कम्प्यूट पर कार्य भी करना है और इनसे बचना भी है तो कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। नासिक के वैद्य आशुतोष यार्दी ने आरोग्य सम्पदा पत्रिका में चंद सुझाव दिए हैं जो सरलता से अपनाए जा सकते हैं। 
टेन कमांडमेंट्स
1.कम्प्यूट ग्लासेस का इस्तेमाल कीजिए।
2.कम्प्यूटर पर कार्य करते समय अपनी आँखों की हलचल नियमित रखने की कोशिश कीजिए।
3.ट्वन्टी-ट्वन्टी नियम का पालन करें। अर्थात हर बीस मिनट बाद बीस सेकंड के लिए बीस फुट की दूरी पर दृष्टि टिकाने की कोशिश करें।
4.काम करते समय अक्सर ब्रेक लें।
5.आपके बैठने की स्थिति और स्क्रीन की स्थिति का ठीक से समायोजन करें।
6.प्रकाश व्यवस्था समुचित हो, कम्प्यूटर की ब्राइटनेस और कांट्रास्ट समायोजित करें। 
7.रात को सोते समय अरंडी (केस्टर आइल) के तैल से पैर के तलवों की मालिश करें।
8.आँखों पर हर रात असली घी अथवा गाय के घी से मालिश करें। 
9.सुबह मुँह धोते समय मुँह में पानी भर कर आँखों पर पानी के हल्के छींटे दें।
10.रात को सोते समय हर रोज त्रिफला चूर्ण एक चम्मच पानी के साथ लें।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर लेख है। सभी को ध्यान देना चाहिये।

    अलसी के तेल की दो बूंद आंखों को नया जीवन देती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. sir ,
    please tell some desi remedy for diabetes (sugar)

    उत्तर देंहटाएं